चीन की इस हसीना ने भारत-नेपाल में बढ़ाए तनाव

अंतरराष्ट्रीय

नई दिल्ली। टीएलआई

बेटी-रोटी के रिश्ते वाले भारत-नेपाल का संबंध इन दिनों बेहद खराब हो गया है। नेपाल की संसद से विवादित नक्शा पास होने के बाद दोनों देशों की खुली सीमाओं पर अब जवान तैनात हो गए हैं। एक तरह चीन से विवाद जारी है वहीं नेपाल का इस तरह आक्रामक हो गया है, ऐसे में नेपाल के इस रवैये के पीछे चीन की साजिश मानी जा रही है। वहीं इस साजिश को अंजाम तक ले जाने वाली एक चीनी हसीना है। इस चीनी हसीना की पहुंच नेपाल के प्रधानमंत्री ओली के दफ्तार तक है।
यह वही महिला है जो पाकिस्तान में चीन की राजदूत रहते समय पाक की सरकारी नीतियों में भी दखल दे रही थी। यही नहीं पाकिस्तानी नीतियों में हस्तक्षेप बढ़ाने के लिए इस महिला ने उर्दू तक सीखी। सूत्रों का कहना है कि विवादित नक्शें को संसद से पास कराने के लिए इस महिला ने नेपाल के प्रधानमंत्री को राजी कराया।


नेपाल में 2018 से चीन की राजदूत के रूप में तैनात होऊ यांगी को भारत-नेपाल के रिश्ते में आई कड़वाहट को जिम्मेदार माना जा रहा है। विशेषज्ञ होऊ यांगी को दक्षिण एशियाई मामलों का बेहद जानकार मानते हैं। नेपाल ने अपने नए नक्शे में भारत के तीन इलाके लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा को अपना हिस्सा बताया है। सूत्रों के अनुसार नेपाल को इसके लिए चीन ने उकसाया है। नेपाल ने जबसे विवादित नक्शा को अपने हिस्से में शामिल किया है, तभी से दोनों देशों के बीच तल्खियां बढ़ी हैं। माना जा रहा है कि नेपाल की इस खुराफात के पीछे यांगी का ही हाथ है। यांगी ने ही पीएम ओली और नेपाल की संसद को इसके लिए तैयार किया। जानकारी के मुताबिक यांगी पीएम ओली के दफ्तर और उनके निवास पर भी बिना रोक टोक ही आती जाती हैं। यह भी कहा जा रहा है कि नेपाल की सत्तासीन पार्टी के जिस प्रतिनिधिमंडल ने नक्शे में संशोधन के लिए विधेयक बनाया, यांगी उसके संपर्क में भी थीं। सूत्रों के अनुसार हाऊ यांगी ने पाकिस्तान में राजदूत रहते हुए पाकिस्तानी सरकार की कई नीतियों पर काम किया है। इनमें से कई नीतियां ऐसी भी थी जिनका संबध भारत से था। बताया जाता है कि सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाली यांगी के कूटनीतिक दिमाग का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि उन्होंने पाकिस्तान में अपने एजेंडे को चलाने के लिए उर्दू भाषा सीखी। यांगी सोशल मीडिया में चीन की सांस्कृतिक और सामाजिक बातों का बढ़चढ़ कर बखान करती है। चीन ने पाकिस्तान में यांगी की सफलता को देखते हुए उन्हें नेपाल भेजा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *