इस जौहर का कायल हो गया पाकिस्तान

अंतरराष्ट्रीय

इस्लामाबाद।

एक डॉक्टर के साथ बेहतर निशानेबाजी में भी जौहर दिखाने वाली मेजर जनरल निगार जौहर का पाकिस्तान भी कायल हो गया। जौहर पाकिस्तानी सेना में लेफ्टिनेंट जनरल बनने वाली पहली पाकिस्तानी महिला है। निगार जौहर को सेना की पहली महिला सर्जन होने का भी गौरव प्राप्त है।
खैबर पख्तूनख्वा निवासी निगार जौहर ने 1978 में रावलपिंडी के कॉन्वेंट गर्ल्स स्कूल में हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद 1985 में आर्मी मेडिकल कॉलेज में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। वह आर्मी मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की। निगार ने उसी कॉलेज में आयशा कंपनी की महिला कंपनी कमांडर के रूप में भी काम शुरू किया। कॉलेज ऑफ फिजिशियन और सर्जन पाकिस्तान की सदस्यता के लिए 2010 में परीक्षा पूरी करने के बाद 2012 में, निगार ने सशस्त्र बल पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल इंस्टीट्यूट और 2015 में एडवांस मेडिकल एडमिनिस्ट्रेशन में अपना डिप्लोमा पूरा किया। 2017 में मेजर जनरल के पद निगार जौहर का प्रमोशन हुआ। निगार इस पद पर पहुंचने वाली तीसरी महिला पाकिस्तानी अधिकारी बनी। लेफ्टिनेंट जनरल जौहर आर्मी मेडिकल कोर से संबंधित हैं और मेजर (आर) मोहम्मद आमिर की भतीजी हैं, जो पाकिस्तान के पूर्व सेना अधिकारी हैं, जिन्होंने इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) में सेवा की थी। उसके पिता कर्नल कादिर ने भी आईएसआई में सेवा की थी। निगार जौहर एक डॉक्टर होने के साथ-साथ माहिर निशानेबाज भी हैं। मंगलवार को मेजर जनरल निगार जौहर पाकिस्तानी सेना में लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर पहुंचने वाली पहली महिला बन गईं। वह पदोन्नति के बाद तीन स्टार रैंक पाने वाली पहली पाकिस्तानी महिला अधिकारी हैं। निगार जौहर को पाक सेना की पहली महिला सर्जन जनरल के रूप में नियुक्त किया गया है। लेफ्टिनेंट जनरल जौहर फिलहाल पाकिस्तान सेना के मेडिकल कोर में तैनात हैं। वह दक्षिण एशिया के सबसे बड़े रावलपिंडी स्थित आर्मी अस्पताल की कमान संभाल रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *